अमेरिकी ड्रोन ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को मारा, पाकिस्तान के बुरे दिन शुरू

889

.अमेरिका में जबसे डोनाल्ड ट्रम्प राष्ट्रपति बने हैं पाकिस्तान के रंग उड़े हुए हैं, आतंकवाद से दुनिया को नुकसान पहुँचाने वाला पाकिस्तान अब समझ चुका है कि उसके अच्छे दिन अब नहीं रहे. इसीलिए वो आतंकियों पर कार्रवाई भी करने लगा है. पाकिस्तान ने बीते दिनों मोस्ट वांटेड आतंकी हाफिज़ सईद को नजरबन्द भी कर दिया.

लेकिन ताज़ा खबर ये है कि पाकिस्तान की नींद फ़िलहाल उडी हुयी है. अमेरिकी सेना लगातार पाकिस्तान में आतंकियों पर ड्रोन हमले कर रही है और पाकिस्तान खून के घूंट पीकर भी चुप है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के दौरान कहा था कि वो आतंकवाद के खिलाफ सीधे तौर पर जंग लड़ेंगे और आतंकवादियों को पनाह देने वालों को नहीं बक्शेंगे.

पाकिस्तान में घुस कर किया हमला, दो आतंकी ढेर

खबर यह है कि अमेरिका ने एक ड्रोन हमले में पाकिस्तान के अन्दर दो आतंकियों को मार गिराया है, ये दोनों आतंकी अफगानी तालिबान के थे, उनमें से एक अफगानिस्तानी तालिबान का सीनियर कमांडर कारी अब्दुल्लाह सुबारी था और दूसरे का नाम शाकिर है. ये दोनों आतंकी अफगानिस्तान से पाकिस्तानी सीमा में दाखिल हुए थे.

बीते दिनों अफगानिस्तान में हुए हमले के पीछे इन्हीं दोनों आतंकियों का हाथ था. उस हमले के लिए ये दोनों जिम्मेदार थे. अमेरिकी ड्रोन हमले में इन दोनों का सफाया कर दिया गया. एक रिपोर्ट के मुताबिक ड्रोन अफगानिस्तान से उड़ा और पाकिस्तान में इन दोनों आतंकियों को अपना निशाना बना लिया. रिपोर्ट में बताया गया है कि हमले के वक्त दोनों आतंकी मोटरसाइकिल पर स्वर थे. अमेरिकी ड्रोन हवा में ही रहा और आतंकियों पर सटीक निशाना साधते हुए उनका काम तमाम कर दिया।

खून के घूंट पीकर रह गया पाकिस्तान

इस हमले के बाद पाकिस्तानी मीडिया में हाहाकार मच गया लेकिन पाकिस्तान सरकार खून के घूंट पी कर रह गयी. पाकिस्तानी सरकार ने फ़िलहाल इसपर किसी भी तरह का कोई रिएक्शन नहीं दिया है. इससे पहले मई 2016 में भी पाकिस्तान में अमेरिकी ड्रोन हमले हुए थे तब पाकिस्तान ने काफी उग्र प्रतिक्रया दी थी और हमले से पाकिस्तान की संप्रभुता को को खतरा बताते हुए, जवाबी कार्रवाई की बात कही थी.

राष्ट्रपति ट्रम्प का हुआ है असर

लेकिन अभी पाकिस्तान कुछ नहीं बोल पा रहा है. पाकिस्तान शायद तय ही नहीं कर पा रहा कि इस हमले पर किस तरह से प्रतिक्रिया दी जाये. क्योंकि तबमे और अब में बहुत फर्क है तब अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा थे और अब डोनाल्ड ट्रम्प हैं. बराक ओबामा अपने नम्र स्वाभाव के लिए जाने जाते हैं तो डोनाल्ड ट्रम्प दुनिया भर में अपने उग्र स्वाभाव के लिए मशहूर हैं.