IPC Section 506 – The Indian Penal Code – भारतीय दण्ड संहिता की धारा 506

3930

IPC 506 in Hindi

IPC Section 506 in hindi – 506 IPC in hindi – जो कोई आपराधिक अभित्रास का अपराध करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।
यदि धमकी मॄत्यु या घोर उपहति इत्यादि कारित करने की हो-तथा यदि धमकी मॄत्यु या घोर उपहति कारित करने की, या अग्नि द्वारा किसी सम्पत्ति का नाश कारित करने की या मॄत्यु दण्ड से या आजीवन कारावास से, या सात वर्ष की अवधि तक के कारावास से दण्डनीय अपराध कारित करने की, या किसी स्त्री पर असतित्व का लांछन लगाने की हो तो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित जाएगा।

आईपीसी धारा 506 की सजा और जमानत

  1. अपराधी को दंड के रूप में 02 (आपराधिक धमकी) या 07 (मृत्यु या गंभीर चोट पहुंचाने की धमकी) साल कैद या जुर्माने से, या दोनों की सजा दी जा सकती है।
  2. यह जमानती, गैर-संज्ञेय अपराध है और प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है और यह अपराध समझौता करने योग्य है।

क्या आप पर आईपीसी धारा- 506 का आरोप है?
बेल के लिए सलाह हेतु 8112333133 पर कॉल करें – सलाह की फीस 250रु से शुरू

IPC 506 in English

IPC Section 506 in english – 506 IPC in english – Whoever commits, the offence of criminal intimidation shall be punished with imprison­ment of either description for a term which may extend to two years, or with fine, or with both; If threat be to cause death or grievous hurt, etc.And if the threat be to cause death or grievous hurt, or to cause the destruction of any property by fire, or to cause an offence punishable with death or 1[imprisonment for life], or with imprisonment for a term which may extend to seven years, or to impute, unchastity to a woman, shall be punished with imprison­ment of either description for a term which may extend to seven years, or with fine, or with both.

IPC Section 506 Punishment & Bail

  1. The criminal can be given 02 (Criminal intimidation) or 07 (Threatened to death or serious injury) years of imprisonment or with fine, or with both as a punishment.
  2. This is a Bailable, Non-Cognizable offense and considered by First class Magistrate and this crime is worth the compromise.

इन धाराओं के बारे में भी जाने-