शीघ्रपतन रोकने के बाबा रामदेव द्वारा आसान घरेलू उपाय, नेचुरल दवा और नुस्खे इन हिंदी

12473

शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि: कुछ लोग इंटरनेट पर शीघ्रपतन के लिए कई चीजें ढूंढते हैं जैसे shighrapatan rokne ki dawa, shighrapatan ka ayurvedic ilaj, shighrapatan ka desi ilaj, shighrapatan treatment, शीघ्रपतन रोकने के उपाय इन हिंदी, शीघ्रपतन का इलाज बाबा रामदेव, शीघ्रपतन का आयुर्वेदिक उपचार, जल्दी वीर्य गिरने से रोकने के उपाय, शीघ्रपतन कैसे रोके, शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि, वीर्य गाढ़ा करने के रामबाण औषधि इत्यादि पर उन्हे उपाय नहीं मिलता पर अगर आप इस पोस्ट मे बताए गए सारे तरीके विधिपूर्वक करते है तो यकीन मानें आपकी यौन समस्या से आप जल्द ही निजात पा लेंगे वैसे यौन समस्याओं के कारण शारीरिक, मानसिक, या दोनों हो सकते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं पुरुषों में कमजोरी पैदा करने वाली समस्याओं को खत्म करने के लिए कुछ नेचुरल नुस्खे। ये इस समस्या में रामबाण की तरह काम करते हैं।

शीघ्रपतन का आयुर्वेदिक उपचार

शीघ्रपतन (Shighrapatan) पुरुषों को होने वाली एक प्रकार की यौन समस्या है जिसमें सेक्स के दौरान चरम पर पहुंचने या आर्गेज्म से पहले ही वीर्य (Sperm) निकल जाता है या यूं कहे आप ज्यादा समय तक सेक्स करने में असमर्थ हैं। इस समस्या को शीघ्रपतन कहते हैं।

शीघ्रपतन के लक्षण (Symptoms of Premature Ejaculation)

  • संभोग करने के 60 सेकेण्ड के अन्दर आपका वीर्यपतन (Ejaculation) हो जाना।
  • यौन उत्तेजना कम होना।

शीघ्रपतन होने के कारण (Cause of Premature Ejaculation)

  • मानसिक तनाव (depression)
  • रिश्तों से संबंधी समस्याओं के कारण भी शीघ्रपतन हो सकता है।
  • स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) में भी शीघ्रपतन की समस्या होती है।
  • समय से पहले वीर्यपतन के बारे में चिंता करना या सेक्स लाइफ को लेकर चिंता करना।
  • यौन अनुभव की शुरुआती दौर में भी शीघ्रपतन की समस्या होती है।
  • शरीर में यौन हार्मोन्स या असमानता भी इसका कारण हो सकता है।
  • मूत्रमार्ग या प्रोस्टेट ग्रन्थि में संक्रमण होना।
  • आनुवांशिकता की वजह से भी शीघ्रपतन की समस्या हो सकती है।
  • सर्जरी या मानसिक अघात के कारण भी शीघ्रपतन की समस्या हो सकती है।
  • अत्यधिक शराब का सेवन करना या अत्यधिक धूम्रपान करना।
  • एंटीबायोटिक दवाओं का अत्यधिक सेवन करना।
  • जंकफूड का अत्यधिक सेवन करना।

शीघ्रपतन का आयुर्वेदिक उपचार

शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि

  1. रोज रात को सोने से पहले लहसुन की दो कलियां निगल लें। फिर थोड़ा-सा पानी पिएं। आंवले के चूर्ण में मिश्री पीसकर मिलाएं। इसके बाद प्रतिदिन रात को सोने से पहले करीब एक चम्मच इस मिश्रित चूर्ण का सेवन करें। इसके बाद थोड़ा-सा पानी पिएं।
  2. आंवले का मुरब्बा खाएं। केला पुरुष की शक्ति को बढ़ाने वाला फल है। प्रतिदिन केले खाएं और संभव हो तो केला खाने के बाद दूध भी पिएं।
  3. अजवाइन की पत्तियां स्वप्नदोष की समस्या के लिए एक बेहतरीन दवा है। अजवाइन की पत्तियों का जूस निकालकर उसे शहद के साथ लें। अजवाइन का रस इस तरह से लेने से बहुत जल्दी लाभ होता है।
  4. नपुंसकता दूर करने के लिए पुरुषों को कच्ची भिंडी चबानी चाहिए। इस समस्या में भिंडी एक बेहतरीन दवा का काम करती है।
  5. प्याज के सफेद कंद का रस, शहद, अदरक का रस और घी का मिश्रण 21 दिनों तक लगातार लेने से नपुंसकता दूर होकर पौरुष शक्ति प्राप्त होती है।
  6. छुई-मुई के बीजों के चूर्ण (3 ग्राम) को दूध में मिलाकर रोजाना रात को सोने से पहले लिया जाए तो शारीरिक दुर्बलता दूर हो जाती है।
  7. स्वस्थ सोच से ही शरीर स्वस्थ रहता है। यह एक सच्चाई है। इन समस्याओं के लिए हमारे मन की भावनाएं भी काफी हद तक जिम्मेदार होती हैं। मन में भोग-विलास के वासनात्मक ख्याल रहना या मन में हमेशा काम-वासना के विचार घुमड़ते रहना स्वप्नदोष व शीघ्रपतन जैसी समस्याओं का एक बड़ा कारण है।
  8. मेथी को इस समस्या की बहुत कारगर दवा माना गया है। दो चम्मच मेथी के जूस में आधा चम्मच शहद मिलाकर रोजाना रात को लेने से इस समस्या में बहुत जल्दी आराम मिलता है।
  9. हमारी आदतें भी स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डालती है। यही कारण है कि कई बार सिर्फ गलत आहार-विहार यानी गलत समय पर गलत चीजें गलत तरीके से गलत मात्रा में लेने और अप्राकृतिक तरीके से अपनी दिनचर्या रखने से समस्याएं पैदा होती हैं। इन सभी कारणों से न सिर्फ स्वास्थ्य पर, बल्कि विवाहित जीवन पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। साथ ही, आवश्यकता से अधि
  10. कच्चे प्याज का सेवन स्वप्नदोष की समस्या में बहुत अच्छा माना गया है। खाने में किसी भी रूप में प्याज का सेवन किया जाए तो इस समस्या में लाभ पहुंचता है। साथ ही, अगर इसे कच्चा खाया जाए तो बेहतर परिणाम मिलते हैं।
  11. कुछ पौधों को कभी खर-पतवार तो कभी कचरा या कभी फालतू पौधा मानकर उखाड़ फेंक दिया जाता है। ऐसा ही एक पौधा है पुनर्नवा। पुनर्नवा का वानस्पतिक नाम बोहराविया डिफ्यूसा है। पुनर्नवा की ताजी जड़ों का रस (2 चम्मच) दो से तीन माह तक लगातार दूध के साथ सेवन करने से वृद्ध व्यक्ति भी युवा की तरह महसूस करने लगता है।
  12. तिल का तेल भी इस समस्या में रामबाण की तरह काम करता है। तिल के तेल को जितनी मात्रा में लें, उतनी ही मात्रा में लौकी का जूस भी लें। रात को सोने से पहले इस तेल के मिश्रण से अपने सिर और बॉडी पर मसाज करें। यह एक बहुत प्रभावी नुस्खा है, जो बिना किसी खास खर्च के आपको इस समस्या से पूरी तरह राहत देगा।
  13. स्वस्थ सोच से ही शरीर स्वस्थ रहता है। यह एक बड़ी सच्चाई है। इन समस्याओं के लिए हमारे मन की भावनाएं भी काफी हद तक जिम्मेदार होती हैं। मन में भोग-विलास के वासनात्मक ख्याल लाना या मन में काम-वासना के विचार करना स्वप्रदोष व शीघ्रपतन जैसी समस्याओं का एक बड़ा कारण है।
  14. साबुत अनाज को भिगोकर अंकुरित कर खाने से खून बढ़ता है। इसके नियमित सेवन से स्वप्नदोष की समस्या कम हो जाती।