यूपी में भाजपा की लहर नहीं सुनामी चल रही है, बनेगी पूर्ण बहुमत की सरकार: अमित शाह

2125

गोरखपुर (उप्र): भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश में अपनी पार्टी की ‘सुनामी’ आने का दावा करते हुए आज कहा कि राज्य का विधानसभा चुनाव देश की राजनीति में बहुत बड़ा बदलाव लाने जा रहा है।

शाह ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘उत्तर प्रदेश में भाजपा की लहर नहीं बल्कि सुनामी आने वाली है और उत्तर प्रदेश का चुनाव देश की राजनीति में बहुत बडा बदलाव लाने जा रहा है।’ उन्होंने कहा कि पहले पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जब चुनाव शुरू हुआ था, तब लगता था कि भाजपा की लहर है लेकिन जैसे जैसे चुनाव पूर्वांचल की ओर बढ रहा है, लगने लगा है कि भाजपा की लहर नहीं बल्कि सुनामी आने वाली है। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में भाजपा की स्थिति के बारे में पूछे जाने पर शाह ने कहा कि गोवा, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में भाजपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रही है। पंजाब में कांटे की टक्कर है जबकि मणिपुर की स्थिति अभी स्पष्ट नहीं है। उत्तर प्रदेश में त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति पैदा होने पर क्या करेंगे, इस सवाल पर उन्होंने कहा, ‘कोई हंग एसेंबली (त्रिशंकु विधानसभा) नहीं होगी। हम दो तिहाई बहुमत से सरकार बनाएंगे। सीटवार सीधा मुकाबला है। कहीं सपा है तो कहीं बसपा है, मगर हम सब जगह पर हैं।’

सपा और कांग्रेस के गठबंधन को ‘अपवित्र’ करार देते हुए भाजपा अध्यक्ष बोले, ‘सपा-कांग्रेस का गठबंधन दलों और विचारधाराओं का गठबंधन नहीं है बल्कि ये बडा अपवित्र गठबंधन है क्योंकि जिन लोहिया जी का पूरा जीवन कांग्रेस के विरोध में रहा, (उन्हें मानने वाली) सपा ने चुनाव जीतने के लिए आज कांग्रेस के साथ गठबंधन किया है।’ शाह यहीं नहीं रूके, उन्होंने कहा, ‘यह दो भ्रष्टाचारी परिवारों का गठबंधन है। इस गठबंधन के साथ ही अखिलेश यादव ने अपनी हार स्वीकार कर ली है। अगर विश्वास होता कि अपने पांच साल के कार्यकाल के बूते वह फिर से सत्ता में आ सकते हैं तो कभी गठबंधन नहीं करते। उनमें आत्मविश्वास का अभाव है। जीत के विश्वास का अभाव है।

उत्तर प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था को लेकर सपा सरकार को आड़े हाथ लेते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड्स ब्यूरो के आंकडों पर नजर डालें तो अपराधों के मामले में उत्तर प्रदेश शीर्ष पर है। चाहे किसान हो, गरीब, महिला या व्यापारी हो, सभी वर्ग असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विकास के नाम पर उत्तर प्रदेश में पांच साल में कुछ नहीं हुआ। भ्रष्टाचार चरम पर है और भर्ती एवं खनन घोटालों सहित तमाम घोटाले हुए। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने खनन माफिया (अखिलेश सरकार के कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति) को फिर से टिकट देकर साबित कर दिया है कि भ्रष्टाचार को रोकने के लिए उनमें कोई इच्छाशक्ति नहीं है।

अगले पेज़ पर पढ़ें अमित शाह ने गायत्री पर बलात्कार के आरोप पर क्या कहा.