AAGAZ INDIA
TRUTH BEHIND THE NEWS

वाराणसी : किराए पर उठा पूरा रामनगर पुलिस थाना, टंग गया शास्त्री नगर नवीनपुर थाने का बोर्ड

SANDEEP KR SRIVASTAVA 26 Jul 2021 1763

वाराणसी: सुनने में भले ही थोड़ा अटपटा लगे। लेकिन यह है सच। शहर का रामनगर थाना आज सोमवार को किराए पर दे दिया गया है।थाना तो असली है, लेकिन पूरा दिन आज थाने पर नकली पुलिस वालों का कब्जा बना हुआ है।असली थाने में नकली पुलिस को देख थाने पहुंचे फरियादी दिनभर दुविधा में दिखाई दे रहे है।

जी हां सही सुना आपने इसमें कोई चौकने वाली बात नहीं है,भाई ये अपना रामनगर का ही थाना है ।बस थोड़ा अंदर से शास्त्री नगर थाना नवीनपुर कर दिया गया है।


आपलोगों को तो पता ही है, कि प्रदेश सरकार इस वक़्त जबरदस्त घाटे में चल रही है तभी शायद आजकल प्रशासनिक भवन हो चाहे वो पुलिस थाना हो, हॉस्पिटल हो या फ़िर रेलवे स्टेशन हो ये सभी सरकारी परिसर और भवन अब फ़िल्म इंडस्ट्रीज वालों को किराए पर उपलब्ध होने लगें हैं।
फ़िर चाहे थाने पर आया कोई पिड़ित हो, या हॉस्पिटल में गया कोई मरीज़ हो, अथवा कहीं दूर जाने वाला कोई यात्री हो उसके परेशानियों से प्रशासन का कोई सरोकार नहीं।थाने में कोई फरियादी अपनी फरियाद लेकर आता है तो उसे थाने के मुंशी या किसी उपनिरीक्षक द्वारा यह कह कर भगा दिया जाता है कि"देखते नहीं यहां अभी शूटिंग चल रही है, यहां के सरकारी हॉस्पिटल में यदि किसी फ़िल्म का सेट लगा है और ऐसे में कोई मरीज़ पहुंच गया डॉक्टर से मिलने के लिए तो फ़िल्म यूनिट के कर्मचारी या सेट पर खड़े बाउंसर उसको ये कहते हुए रोक देतें हैं कि"रूक जाओ, अभी शूटिंग चल रही है।

गौरतलब है,कि इसी तरह का एक वाक्या मंडुआडीह रेलवे स्टेशन(वर्तमान में बनारस)का हुआ जो लगभग एक साल पहले की बात है मंडुआडीह रेलवे स्टेशन को इन फ़िल्म वालों ने नई दिल्ली जंक्शन कर दिया था।अब जितने भी पैसेंजर मंडुआडीह स्टेशन पर उतरते वो नई दिल्ली जंक्शन का बोर्ड देख कर एक बार चकरा जाते थे या फिर कंफ्यूज हो जाते थे।वो ये सोचने लगते थे कि यार हम किधर आ गए।क्या हम रिक्शे से दिल्ली आ गए या फिर दिल्ली ही बनारस उठ कर चली आयी है।ऐसे कई वाक्ये आजकल प्रदेश में देखने और सुनने को मिल रहे जिससे कि सफर कर रहा यात्री भी भ्रमित हो जा रहे थे।और जो कुछ यात्री मंडुआडीह रेलवे स्टेशन के अंदर जाना भी चाह रहे थे तो उन्हें बाउंसर ही कह देते थे कि इधर से नहीं उस तरफ़ से जाओ,अब ऐसे में किसी को कृषक तो किसी को मरुधर एक्सप्रेस पकना था तो वो तो छूट गई बस इधर उधर करने से।

लेकिन प्रशासन या सरकार को कौन कहे।उन्हें तो बस अपना व्यापार करना है जनता चाहे भाड़ में जाये।आजकल कोई भी जनता कि समस्या को सुनता कहा है भला।यही चुनाव का समय आएगा तो हर राजनीतिक दलों के लिए यही जनता भगवान नजर आने लगती है।चुनाव बीतने के बाद कौन जनता और कैसी जनता की समस्या।



वाराणसी : किराए पर उठा पूरा रामनगर पुलिस थाना, टंग गया शास्त्री नगर नवीनपुर थाने का बोर्ड
SANDEEP KR SRIVASTAVA
26/07/2021
876
2