AAGAZ INDIA NEWS logo

पारिवारिक प्रेम के ढोंग के लबादे में अपनेपन के दिखावे के दहलीज पर दरकता अपनत्व

CHEGVEWARA RAGHUVANSHI 26/07/2020 174


SHARE ON WHATSAPP

चेग्वेवारा रघुवंशी - गुड्डू (एडवोकेट) की कलम से : आज के परिवेश मे परिवार शब्द का शाब्दिक अर्थ सिकुडकर एक पत्नी व बच्चे तक ही सिमट कर रह गया है । आखिर क्यो ? इसके पीछे आकलन का नजरिया व जरिया हम नही खोजते है ! अब सवाल आता है, ये हुआ क्यो या हो रहा तो क्यो ! जिम्मेदार कौन है ? असल मे आज के परिवेश मे हम बुनियादी, दुनियावी, सामाजिकवादी सोचो को दरकिनार कर बस अपनेवादी तक ही सीमित है, उसमे अब बंटवारा सा भी हो गया है, बेटा पिता से दूर, बेटी माता से दूर, लगभग सभी अपनत्व के रिश्ते दिखावटीपन के मुखौटो मे अपने सानिध्य के साथ अब परिवार मे लोमडी सी प्रवृत्ति के हर परिजन अपने एकांकी वर्चस्व का विस्तार व प्रलयन चाहते है, इसके इतर हर कोई अपने परिवार को बचाना भी चाहता है, जो अब महज दिखावटीपन सा ही रह गया है, एक कसमकस के बीच उलझन के साथ उधेडबुन के साथ, एक दिखावटी प्रेम के साथ, बस धन लोलुपता मे लिप्त, धनार्जन के माध्यम की तलाश के ओत-प्रोत लूटने खसोटने मे लिप्त दिखावटी प्रेम के मुस्कान को अपने चेहरे पर लबादा का रुप दिये रह गया है परिवार व उसका हर सदस्य।

DOWNLOAD OUR APP


1वह अक्सर कहता एक घर बनाऊंगा तेरे घर के सामने, उसी प्रेमी की चिता जली अपने प्रेमिका के दरवाजे के आगे
2रातो-रात सुर्खियों में आई कानपुर हर्षिता है कौन? क्यों भेजती थी उसे राजकुंद्रा की कंपनी करोड़ो रुपये
3वाराणसी : किराए पर उठा पूरा रामनगर पुलिस थाना, टंग गया शास्त्री नगर नवीनपुर थाने का बोर्ड
4लखनऊ : अमित शाह बनकर नेताओ को मंत्री बनाने का झांसा देकर करोड़ों लूटने वाले चढ़े क्राइम ब्रांच के हत्थे
5माँ ने चलती ट्रेन से बच्चे को बाहर फेंका, पिता ने ऐसे बचाई बच्चे जान...

SHARE ON WHATSAPP SHARE ON FACEBOOK READ MORE NEWS JOIN US


CHEGVEWARA RAGHUVANSHI
26/07/2020
444
2