AAGAZ INDIA NEWS logo

पटना : बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने समय से पहले सेवानिवृति (वीआरएस) लिया

SANDEEP KR SRIVASTAVA 23/09/2020 106


SHARE ON WHATSAPP

पटना : बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडे ने समय से पहले सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लिया है, जिसे राज्यपाल ने स्वीकार भी कर लिया है. पांडे ने ऐसे समय में वीआरएस लिया है जब बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. ऐसे में उनके चुनाव लड़ने की चर्चाएं तेज हैं. माना जा रहा कि वह एनडीए के उम्मीदवार के तौर पर सियासी पिच पर किस्मत आजमा सकते हैं. हालांकि गुप्तेश्वर पांडे ने चुनावी मैदान में उतरने के लिए 11 साल पहले भी वीआरएएस लिया था, लेकिन बीजेपी से टिकट नहीं मिलने के बाद वो घर वापसी कर गए थे.दरअसल 1987 बैच के आईपीएस ऑफिसर गुप्तेश्वर पांडे को जनवरी 2019 में बिहार का डीजीपी बनाया गया. बतौर डीजीपी उनका कार्यकाल 28 फरवरी 2021 तक था, लेकिन उन्होंने मंगलवार को कार्यकाल पूरा होने से पहले वीआरएस ले लिया है. ऐसे में पांडे के वीआरएस के राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं, क्योंकि इससे पहले भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, वह लोकसभा चुनाव का मौसम था और इस बार बिहार विधानसभा का बिगुल बज गया है.
गुप्तेश्वर पांडे ने 2009 में वीआरएस लिया था और उस समय भी उनके लोकसभा चुनाव लड़ने की चर्चाएं तेज थीं. कहा जाता है कि गुप्तेश्वर पांडे बिहार की बक्सर लोकसभा सीट से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहते थे. गुप्तेश्वर पांडे को उम्मीद थी कि बक्सर से बीजेपी के तत्कालीन सांसद लालमुनि चौबे को पार्टी दोबारा से प्रत्याशी नहीं बनाएगी. ऐसे में वह पुलिस की नौकरी से इस्तीफा देकर सियासी गोटियां सेट करने लगे थे.बीजेपी नेताओं के साथ पांडे ने अपने समीकरण भी बना लिए थे और टिकट मिलने का पूरा भरोसा हो गया भी हो गया था. गुप्तेश्वर पांडे के नाम की घोषणा होती उससे पहले ही बीजेपी नेता लालमुनि चौबे ने बागी रुख अख्तियार कर लिया. इससे बीजेपी ने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए लालमुनि चौबे को भी मैदान में उतारने का फैसला किया. पुलिस सर्विस से इस्तीफा दे चुके पांडे को न खुदा मिला न विसाले सनम. सियासी अरमानों पर पानी फिरने के बाद गुप्तेश्वर पांडे ने दोबारा से सर्विस में वापसी का रास्ता तलाशा.
गुप्तेश्वर पांडे ने इस्तीफा देने के 9 महीने बाद बिहार सरकार से कहा कि वे अपना इस्तीफा वापस लेना चाहते हैं और नौकरी करना चाहते हैं. बिहार में नीतीश कुमार की सरकार ने उनकी अर्जी को स्वीकार करते इस्तीफा वापस कर दिया था. इस तरह से गुप्तेश्वर पांडे की पुलिस सर्विस में नौकरी में वापसी हो गई. 2009 में जब पांडे ने वीआरएस लिया था तब वो आईजी थे और 2019 में उन्हें बिहार का डीजीपी बनाया गया था. अब उन्होंने एक बार फिर वीआरएस ऐसे समय में लिया है जब बिहार में चुनावी सरगर्मियां तेज हैं.
अब देखना ये है,कि एनडीए उनको कहा से उम्मीदवार बनाती है. और पांडेय जी का ये फैसला सही साबित होता है, या गलत

DOWNLOAD OUR APP


1वह अक्सर कहता एक घर बनाऊंगा तेरे घर के सामने, उसी प्रेमी की चिता जली अपने प्रेमिका के दरवाजे के आगे
2रातो-रात सुर्खियों में आई कानपुर हर्षिता है कौन? क्यों भेजती थी उसे राजकुंद्रा की कंपनी करोड़ो रुपये
3वाराणसी : किराए पर उठा पूरा रामनगर पुलिस थाना, टंग गया शास्त्री नगर नवीनपुर थाने का बोर्ड
4लखनऊ : अमित शाह बनकर नेताओ को मंत्री बनाने का झांसा देकर करोड़ों लूटने वाले चढ़े क्राइम ब्रांच के हत्थे
5माँ ने चलती ट्रेन से बच्चे को बाहर फेंका, पिता ने ऐसे बचाई बच्चे जान...

SHARE ON WHATSAPP SHARE ON FACEBOOK READ MORE NEWS JOIN US


SANDEEP KR SRIVASTAVA
23/09/2020
124
2