AAGAZ INDIA NEWS logo

लखनऊ: बिकरू हत्याकांड से योगी सरकार को मिली सबक, अब जेल में बंद कैदियों को नही मिलेगी पैरोल

SANDEEP KR SRIVASTAVA 31/12/2020 245


SHARE ON WHATSAPP

लखनऊ: योगी सरकार का नया फरमान अब यूपी की जेलों में सजा काट रहे कैदियों को नही मिलेगी पैरोल।
कानपुर के बिकरू गांव के कुख्यात अपराधी विकास दूबे के केस से सबक लेते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने सिद्धदोष दुर्दांत अपराधियों को पैरोल न देने का फैसला किया है।
अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बुधवार को इस संबंध में शासनादेश भी जारी कर दिया।
कानपुर एनकाउंटर की जांच के लिए गठित एसआईटी ने इसकी संस्तुति की थी जिसे योगी सरकार ने स्वीकार कर लिया है।

आज जारी शासनादेश में सभी कलेक्टरों, पुलिस कप्तानों तथा लखनऊ एवं गौतमबुद्धनगर के पुलिस कमिश्नरों से कहा गया है,कि एसआईटी की संस्तुतियों एवं केंद्रीय गृह मंत्रालय की तीन सितंबर 2020 को जारी संशोधित गाइडलाइन को देखते हुए बंदियों के पैरोल ;दंड का अस्थाई निलंबन के प्रकरणों का परीक्षण करने के बाद ही अपनी रिपोर्ट शासन को भेजी जाएं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ये भी पता चला है, कि ऐसे अपराधियो को तो पैरोल पर कतई न छोड़ा जाय जो कि गंभीर अपराधों में संलिप्त है।
एसआईटी का मानना है,कि विकास दुबे जैसे दुर्दांत अपराधियों को उनके जेल कार्यकाल के दौरान बाहर आने का अवसर नहीं प्राप्त होना चाहिए।पैरोल न मिलने से उनकी आपराधिक गतिविधियों पर रोक लग सकेगी तथा जनसामान्य में उनका भय भी तभी समाप्त हो पाएगा।

उसने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि, आपराधिक व्यक्तियों के आपराधिक कृत्यों की निगरानी के साथ ही साथ उनके अवैध आर्थिक स्रोतों पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है ताकि इस अवैध धन से अपराधियों की नई नर्सरी न पैदा हो सके।

आईये आपको अब हम बताते है कि पैरोल होता क्या है- ये दो प्रकार का होता है।
1. पैरोल का मतलब ये होता है,कि किसी अपराधी द्वारा अपनी सजा का एक बड़ा भाग जेल में काटने के बाद, उसे अच्छे आचरण की वजह उसे जेेल से मुक्त किया जाता है ।

2. अस्थायी पैरोल होता है,जो कि कुछ समय के लिए व्यक्ति को जेल से छोड़ देना और पैरोल का समय समाप्त होते ही वापस जेल भेज देना होता है।
जेल में बंद सजायाफ्ता कैदी को साल में दो बार पैरोल मिलती है।

DOWNLOAD OUR APP


1वह अक्सर कहता एक घर बनाऊंगा तेरे घर के सामने, उसी प्रेमी की चिता जली अपने प्रेमिका के दरवाजे के आगे
2रातो-रात सुर्खियों में आई कानपुर हर्षिता है कौन? क्यों भेजती थी उसे राजकुंद्रा की कंपनी करोड़ो रुपये
3वाराणसी : किराए पर उठा पूरा रामनगर पुलिस थाना, टंग गया शास्त्री नगर नवीनपुर थाने का बोर्ड
4लखनऊ : अमित शाह बनकर नेताओ को मंत्री बनाने का झांसा देकर करोड़ों लूटने वाले चढ़े क्राइम ब्रांच के हत्थे
5माँ ने चलती ट्रेन से बच्चे को बाहर फेंका, पिता ने ऐसे बचाई बच्चे जान...

SHARE ON WHATSAPP SHARE ON FACEBOOK READ MORE NEWS JOIN US


SANDEEP KR SRIVASTAVA
31/12/2020
122
3